ट्रांसक्रिएशन – रचनात्मक सामग्री का स्थानीयकरण

स्थानीयकरण स्रोत भाषा से लक्षित भाषा में अनुवाद से परे की बात है। रचनात्मक सामग्री के साथ, लक्षित भाषा में ट्रांसक्रिएशन के लिए इसमें स्रोत सामग्री के हृदय और आत्मा को समझना ज़रूरी होता है।
Written by: Shankar G

Translated by: Suchreet K

एक स्थानीयकरण एजेंसी के रूप में, हम औपचारिक सामग्री के साथ काम करते हैं और इसलिए यह गैर-कथाओं की श्रेणी में आता है। इसमें हमें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है – जैसे एक प्रसिद्ध कविता का स्थानीयकरण करना। यदि एक कविता को कई भारतीय भाषाओं में स्थानीयकृत करने की ज़रूरत है, तो हम कैसे सुनिश्चित करते हैं कि यह एक ही प्रेरणादायक मूल्य और तीव्रता के साथ किया जाता है?

किसी कविता का स्थानीयकरण करना अनुवाद के रचनात्मक रूप का एक विशिष्ट उदाहरण है, जिसे ट्रांसक्रिएशन  कहा जाता है। भाषा के उद्देश्य, शैली, स्वर और सन्दर्भ को बनाए रखते हुए एक भाषा का मैसेज/ सन्देश दूसरी भाषा में अपनानाने को ‘ट्रांसक्रिएशन’ कहा जाता है। यह कार्य प्रभावी ढंग से करने के लिए, एक भाषाविद के लिए आवश्यक होता है, वह गहराई में जाकर सोचे और अपने मस्तिष्क के सृजनात्मक पहलुओं का इस्तेमाल करें। यहां कुछ प्रश्न दिए गए हैं, जिन्हें हम ट्रांसक्रिएशन के दौरान खुद से पूछते हैं।

  • मैसेज का मुख्य सन्देश क्या है? कई बार शब्दों का अर्थ अलग होने पर भी, इच्छित अर्थ बहुत अलग हो सकता है। असल में, प्रसिद्ध कविता में, अक्सर ऐसा ही होता है। कविता के शब्द कुछ और कहते हैं और अर्थ कुछ और ही होता है। जिसे समझने के लिए हमें गहराई में जाकर सोचने की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, कविता के ऐतिहासिक संदर्भ को समझने में हमेशा मददगार होता है ताकि इसके अर्थ के समझकर मुख्य सन्देश का पता लगाया जा सके।
  • संदेश का स्वर कैसा है? क्या यह आक्रामक या सुखदायक है? क्या यह कटुता से भरा है या प्रत्यक्ष है? क्या लोक गीत है या भक्ति भजन का रूप लेता है?
  • इसके लिए लक्षित दर्शक कौन है? मज़दूर या शहरी शिक्षित युवा?  क्या अनुवाद उन तक पहुँचता है, जिन्हें लक्ष्य बनाकर अनुवाद किया जाता है? अगर नहीं, तो क्या इसे आसान बनाने की ज़रूरत है?
  • स्रोत भाषा के कौन-से पहलू लक्षित दर्शकों की संस्कृति से संबंधित हैं और कौन से संबंधित नहीं हैं? क्या स्रोत में उपयोग की जाने वाली काव्य तकनीक लक्षित दर्शक समझ सकते हैं? यदि नहीं, तो क्या विशेषण, संकेतों वगैरह के बदलना ज़रूरी है?
  • इन शब्दों से दर्शकों की ओर से क्या प्रतिक्रिया आनी चाहिए?  यह प्रश्न ऊपर दिए गए दूसरे प्रश्न के करीब होने के कारण, क्या हमें शब्दों के चुनाव और संरचना का ध्यान रखना चाहिए?

इन उत्तरों के लिए स्रोत सामग्री का अच्छी तरह से विश्लेषण करने के बाद, हम अपनी रचनात्मकता का इस्तेमाल करते हैं और लक्ष्य भाषा में जादू बनाने की कोशिश फिर से करते हैं। इसलिए, यह कहना उचित होगा की यह केवल अनुवाद नहीं है बल्कि मूल लेखन के बिलकुल करीब स्रोत भाषा से प्रेरित एक असल लेखन है। इसके मूल भाषा की तरह ही उदाहरणों का इस्तेमाल करके बेहतर बनाया जाना चाहिए। यदि कोई अनुवादक इन बारीकियों को समझ नहीं पाता है और सामान्य रूप से चलता है, तो वह स्रोत भाषा के मूल उद्देश्य को दर्शकों तक नहीं पहुंचा सकता।

हालांकि, हर दिन किसी व्यवसाय के लिए कोई कविता या रचनात्मक स्क्रिप्ट स्थानीयकृत करने की ज़रूरत नहीं होती है। लेकिन रचनात्मक प्रतिलेखन, विपणन संचार, मनोरंजन सामग्री के लिए उपशीर्षक आदि में ट्रांसक्रिएशन करना ज़रूरी होता है। ऐसे सभी मामलों में, संस्कृतियों, सीमाओं और निश्चित रूप से, भाषाओं से परे एक ब्रांड की व्यावसायिक सफलता के लिए प्रभावी ट्रांसक्रिएशन महत्वपूर्ण है।

आखिरकार, मानव की भावनाएं भाषा की बाधाओं के तोड़कर आगे बढ़ती हैं। यही कारण है कि जब सही तरीके से अनुकूलित किया जाता है, तो ट्रांसक्रिएटेड सामग्री सभी को वैसी ही खुशी, दर्द, प्रेरणा, और भावना महसूस करा सकती है।

वे हिंदी के पियुष मिश्रा, तमिल के सुब्रमण्य भारती, तेलुगू के वीमान या के.एस. और कन्नड़ के नरसिम्हास्वामी कोई भी हो सकते हैं। मानवता को प्रेरित करने के लिए भाषा को कभी बाधा न बनने दें। हम उन रचनाओं की रचनात्मक भावना और उनके छंदों का अर्थ लाने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करते हैं ताकि उन भाषाओं के न बोलने वाले भी उन्हें आसानी से समझ सकें।

क्या आपने कभी कोई सही या गलत ट्रांसक्रिएशन देखा है, जिसे पढ़कर आपको बहुत अच्छा लगा हो या फिर बिलकुल अच्छा न लगा हो? अपने अनुभव नीचे टिप्पणियों में हमारे साथ साझा करें।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.